Palak ki kheti kaise karen

27 December 2023 0 Comments

Palak ki kheti kaise karen puri jankari

 

पालक एक पौध (vegetable) और एक प्रकार का पत्तियाँदार सब्जी है, जिसे अंग्रेजी में “Spinach” कहा जाता है। यह सब्जी आमतौर पर हरा रंग की होती है और इसमें विटामिन्स, खनिज, और ऊर्जा की अच्छी मात्रा होती है। पालक का सेवन सेहत के लाभ के लिए फायदेमंद है, क्योंकि इसमें फाइबर, फोलेट, विटामिन A, C, K, और फिटोन्यूट्रिएंट्स होते हैं।

पालक को आमतौर पर सलाद, सूप, सब्जी, या साग के रूप में बनाया जाता है और इसे कच्चा भी खाया जा सकता है। इसका सेवन बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद होता है। यह हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है, रक्तचाप को नियंत्रित करता है, और आंतरिक पाचन को बनाए रखने में मदद करता है।

मंडी भाव जाने के लिया क्लिक करे : Kisan Ki Awaaz

palak ki kheti kaise karen

मिट्टी : (Palak ki kheti kaise karen)

 

पालक को हर मिट्टी में उगाया जा सकता है।लेकिन देसी खाद वाली मिट्टी में यह सही लगता है।कुछ किसानो ने बताया है।कि मिट्टी का ph 6.8 – 7.0 वाली रेतीली मिट्टी पालक को ज़्यादा विकसित करती है।खेत में बिजाई से पहले किसानो को मिट्टी का विसलेसन कर लेना चाहिए । खेत में गोबर की खाद का ही इस्तेमाल करना चाहिए ह। जो हमारे लिए ख़तरनाक नही होती है।

जल :

 

पालक की जड़े ज़्यादा नीचे नही जाती है।इसलिए इस की फसल को ज़्यादा पानी की ज़रूरत नही होती है।किसानो को इसकी मिट्टी नरम रखनी चाहिए । बड़े किसानो का दावा है। कि खेत को नरम रखने से पालक की फसल ज़्यादा हरी व पोस्टिक होती है। खेत नरम रखने से फसल अवसकता के अनुसार पानी लेती है। साथ ही पालक की फसल जल्दी तैयार होती है। ज़्यादा पानी देने से फसल ख़राब भी हो सकती है। Palak ki kheti kaise karen

पोषक तत्वों :

 

पालक की फसलों में पोषण की सही मात्रा और संतुलन को बनाए रखने के लिए कुछ महत्वपूर्ण पोषण तत्वों का प्रबंधन करना आवश्यक है।

नाइट्रोजन (Nitrogen) : नाइट्रोजन पौधों के सही विकास और पत्तियों की उत्पत्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पालक एक पत्तियाँदार सब्जी है, और इसमें नाइट्रोजन की अच्छी मात्रा होनी चाहिए। नियमित रूप से नाइट्रोजन युक्त उर्वरकों का प्रबंधन करें।

फॉस्फोरस (Phosphorus) : फॉस्फोरस पौधों की मजबूती और फूलने में मदद करता है। फॉस्फोरस की अधिकता बढ़ सकती है, इसलिए ध्यानपूर्वक फॉस्फोरस को मिट्टी में मिश्रित करें।

पोटैशियम (Potassium) : पोटैशियम पौधों की ऊर्जा स्तर को बनाए रखने में मदद करता है और उन्हें संक्रियाशील रखता है। इससे पालक की स्वास्थ्य बनी रहती है और यह रोगों के प्रति सुरक्षित बनती है।

फास्फोरस और पोटैशियम की सही अनुपात (Phosphorus-Potassium Ratio) : सही अनुपात में फास्फोरस और पोटैशियम का संतुलन बनाए रखना महत्वपूर्ण है। यह फसल के विकास में मदद करता है और उपज में सुधार करता है। Palak ki kheti kaise karen

कटाई :

 

पालक की कटाई को सही तरीके से करना महत्वपूर्ण है ताकि पौधा बर्ताव के बाद भी उचित रूप से विकसित हो सके और आपको अच्छी उपज मिले। यहां कुछ आम चरण हैं जो पालक की कटाई के दौरान ध्यान में रखे जा सकते हैं:

कटाई का समय : पालक को कटाई का समय बहुत महत्वपूर्ण है। सामान्यत: पालक को विकसित होने में लगभग 40-50 दिन लगते हैं, लेकिन इसका समय विभिन्न प्रकार के पालक और उनकी बुआइयों पर भी निर्भर करता है।

पेड़ों की चयन : पालक की कटाई के लिए पेड़ों का चयन भी महत्वपूर्ण है। विकसित पत्तियों और ठंडे मौसम में पालक की कटाई करना अच्छा होता है।

पत्तियों की चयन : पालक की कटाई के लिए पत्तियों को ध्यानपूर्वक चुनना चाहिए। ताजगी और खिला रंग वाली पत्तियों को चुनना उचित है। इनमें पोषण की अधिकता होती है और उन्हें आसानी से चुना जा सकता है।

कटाई का तकनीक : पालक की कटाई के लिए एक तेज़ और तीखे ब्लेड का उपयोग करें ताकि पालक सही रूप से काटा जा सके और पौधा अच्छे से विकसित रह सके। Palak ki kheti kaise karen

प्रति हेक्टेयर पालक की उपज कई कारणों पर निर्भर करती है और यह विभिन्न क्षेत्रों और वातावरणीय शर्तों पर भी आधारित होती है। पालक की उपज को संभालने में कई कारकों का प्रभाव हो सकता है, जैसे कि मिट्टी, जल, उर्वरक, बीज गुणवत्ता, और प्रबंधन प्रक्रियाएं।

पालक की औसत उपज प्रति हेक्टेयर 20-30 टन होती है। जाहिर तौर पर, अनुभवी किसान कई सालों के अभ्यास के बाद ऐसी बड़ी फसल पा सकते हैं। एक ही फसल की कई बार कटाई करने पर, हम 2 – 3 कटाई सत्रों से हर सत्र में प्रति हेक्टेयर 10-15 टन पालक पा सकते हैं।

ध्यान रखें कि 1 टन = 1000 किलो = 2200 पाउंड और 1 हेक्टेयर = 2,47 एकड़ = 10.000 वर्ग मीटर।

बीज गुणवत्ता : अच्छी गुणवत्ता वाले बीजों का चयन करना महत्वपूर्ण है। उच्च गुणवत्ता वाले बीज पौधों को मजबूत बनाते हैं और उपज में सुधार कर सकते हैं।

मिट्टी की गुणवत्ता : पालक को उगाने के लिए योग्य मिट्टी का चयन करना महत्वपूर्ण है। मिट्टी को अच्छे से तैयार करना, उर्वरकों से सही तरीके से समृद्धि करना और अच्छी ड्रेनेज सुनिश्चित करना उपज में सुधार कर सकता है।

उर्वरक प्रबंधन : उच्च गुणवत्ता वाले उर्वरकों का प्रयोग करना पौधों की सही विकास के लिए महत्वपूर्ण है। उर्वरकों की सही मात्रा और संतुलन को बनाए रखना भी आवश्यक है।

पानी की प्रबंधन : सही समय पर और सही मात्रा में पानी प्रदान करना महत्वपूर्ण है। पालक को योग्य सिंचाई प्रदान करना उचित होता है।

रोग और कीट प्रबंधन : पालक की पौधों को सुरक्षित रखने के लिए अच्छे रोग और कीट प्रबंधन के उपायों का पालन करना आवश्यक है।

सही कार्यकलापों का पालन: सही तकनीकों का प्रयोग करना और सही कार्यकलापों का पालन करना भी महत्वपूर्ण है, जैसे कि सही प्रकार से बुआई, छिद्रांकन, और कटाई करना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *