करेले की खेती ( karele ki kheti ) : कम लागत में कमाए ज़्यादा मुनाफ़ा

20 December 2023 0 Comments

करेला (Bitter gourd) की खेती किसानों के लिए एक लाभकारी और सुझावी खेती हो सकती है, क्योंकि यह फलों का एक स्वास्थ्यकर्ण और पौष्टिक विकल्प है। यह खेती अच्छे उत्पादक्ता बनाने के लिए उपयुक्त हो सकती है, परंतु इसमें सही तकनीक और समझदारी से काम करना महत्वपूर्ण है।

karele ki kheti

करेले की बुआई : ( karele ki kheti )

 

 

करेले की बुआई को ध्यानपूर्वक और सही तकनीक से करना महत्वपूर्ण है ताकि आप अच्छी उत्पादक्ता प्राप्त कर सकें। यहां कुछ आम दिशानिर्देश हैं जो करेले की बुआई के लिए आपको मदद कर सकते हैं:
 
सही समय : करेले की बुआई मानसून के समय के बाद की जानी चाहिए, जब भूमि अच्छे से गिला होती है और बिजली की कमी होती है।
बुआई का समय निर्धारित करते समय आपको क्षेत्र की जलवायु को ध्यान में रखना चाहिए।
 
बीजों की बुआई : बीजों की बुआई के लिए खुदाई करें। बीजों को 1-2 इंच की गहराई में बोएं।
बीजों को पौधों के बीच में सही दूरी पर बोएं।
 
पंखावली बुआई : करेले की पंखावली बुआई करने के लिए पंखावली को 2-3 पौधों की समूह में बोएं।

पंखावली के बीच की दूरी को बनाए रखें ताकि पौधे अच्छे से विकसित हो सकें।

पंखावली का इंटरक्रॉप : अगर आप बहु-पुरुषकारी प्रणाली का उपयोग कर रहे हैं, तो पंखावली के बीच में इंटरक्रॉप करें।
इंटरक्रॉप से खेत को ज्यादा से ज्यादा उपयोजित किया जा सकता है और उत्पादक्ता में सुधार हो सकता है।
 
यह भी पढ़ें :- पशुओं का हरा चारा 

खाद (Fertilizer) :

 
खाद (Fertilizer) एक महत्वपूर्ण कृषि उपकरण है जो पौधों को उच्च गुणवत्ता वाले पोषण तत्वों से पूर्ण करने के लिए उपयोग होता है। यह पौधों को अच्छी तरह से बढ़ावा देता है और उत्पादक्ता को बढ़ाता है। यहां कुछ मुख्य प्रकार के खादों का विवरण है:
 
जैविक खाद : जैविक खाद पौधों को नाइट्रोजन, फॉस्फेट, पोटाश, और मिट्टी में मौजूद अन्य पोषण तत्वों के साथ पूर्ण करने के लिए उपयोग होती है।
इसमें खाद, कम्पोस्ट, गोबर, खाद्य अपशिष्ट, और अन्य प्राकृतिक स्रोतों से प्राप्त होने वाली सामग्री शामिल हो सकती है।
 
रासायनिक खाद : रासायनिक खाद पौधों को शीघ्र और सीधे रूप से पोषण प्रदान करने के लिए उपयोग होती है।
इसमें नाइट्रोजन, फॉस्फेट, पोटाश, और अन्य मिश्रण हो सकते हैं जो पौधों की शीघ्र विकास के लिए आवश्यक हैं।
 
मिश्रित खाद : मिश्रित खाद जैविक और रासायनिक तत्वों का संयोजन होता है और इससे पौधों को संतुलित पोषण प्राप्त होता है।
यह उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों के लिए सबसे अच्छा हो सकता है, क्योंकि इसमें जैविक और रासायनिक पोषण का संयोजन होता है।
 
कच्ची खाद : कच्ची खाद में खाद्य अपशिष्ट, खेती से बचाया गया जीवाश्म, और अन्य जैविक सामग्रीएँ शामिल हो सकती हैं।
इसे पौधों की जीवंतता को बढ़ावा देने के लिए उपयोग किया जा सकता है। karele ki kheti

सिंचाई (Irrigation) : 

 
सिंचाई (Irrigation) एक महत्वपूर्ण कृषि प्रविधि है जो पौधों को जल पुर्ति करने के लिए प्रयुक्त होती है। यह प्रक्रिया पौधों को उच्चतम पोषण स्तर और विकास के लिए आवश्यक जल पुर्ति करने में मदद करती है, विशेषकर जब मौसम में कमी होती है या बर्फबारी होती है। यहां कुछ प्रमुख सिंचाई पद्धतियाँ हैं:
 
बूंद सिंचाई : इसमें पानी को छोटे-छोटे बूंदों के रूप में बोया जाता है, जो सीधे पौधों के नीचे जाती हैं।
यह सबसे अधिक विभाजन और उचित जल संबंध सुनिश्चित करती है।
 
धाराप्रवाह सिंचाई : इसमें पानी को एक लंबी धारा के रूप में पौधों के पास पहुंचाया जाता है।
यह प्रणाली सीधे या गोंद से प्रणाली के साथ जल सागरों या नदियों से पानी लेकर किसानों के खेतों में पहुंचाती है।
 
ट्रिकल सिंचाई : इसमें पौधों के आस-पास तीन ओर से पानी की छोटी-छोटी धाराएँ बनाई जाती हैं।
यह सिंचाई का सबसे अच्छा तरीका हो सकता है और पौधों को समृद्धि पूर्वक और सुगमता से पोषित करने में मदद करता है।
 
ड्रिप सिंचाई : इस प्रणाली में पानी को सीधे पौधों के नीचे टूटे टूटे नलों के माध्यम से भेजा जाता है।
यह सिंचाई का सबसे एकीकृत और सुरक्षित तरीका हो सकता है जिससे पानी की बर्बादी को कम किया जा सकता है।
 
बूटी सिंचाई : इसमें पौधों के आस-पास छोटे-छोटे क्षेत्रों में जल की बूटियों का निर्माण किया जाता है।
यह अधिकांशत: उचित पोषण सुनिश्चित करता है और जल की बर्बादी को कम करता है।
सिंचाई का सही तरीके से और सही समय पर किया जाना अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह पौधों को उच्चतम पोषण प्रदान करने में मदद करता है और उत्पादक्ता को बढ़ाता है। karele ki kheti

Also visit our second website :- Kisan Ki Awaaz

फल तुड़ाई : ( karele ki kheti )

 
करेला को तोड़ने (करेला फल तोड़ने) के लिए निम्नलिखित कदमों का पालन करें:
 
समय : करेला तोड़ने का सही समय का चयन करें। करेला अच्छे से पका हुआ होना चाहिए और सबह के समय करेला तोड़ना अच्छा होता है।
 
कुशल शिक्षा : तोड़ने के लिए कुशलता से लैबर या किसान की तरफ से कार्य करें।
करेला के पौधे को अच्छे से पहचानें और फल की स्थिति को समझें।
 
सामग्री : तोड़ने के लिए एक सुरक्षित और धारित सामग्री का उपयोग करें।
हेडगियर, लैडी फूटवियर, और किसान ग्लव्स जैसी सुरक्षा सामग्री का इस्तेमाल करें।
 
टूल्स : तोड़ने के लिए उपयुक्त उपकरणों का उपयोग करें, जैसे कि कुट्टी, कुट्टी की छुरी, और हाथी फौंटेन जैसे टूल्स।
 
कटाई : करेला तोड़ने के लिए फल की कटाई को सावधानीपूर्वक करें ताकि पौधों को कोई नुकसान न हो।
 
स्थान : तोड़ने के बाद, करेले को सुरक्षित स्थान पर रखें ताकि वे किसी भी प्रकार से क्षतिग्रस्त न हों।
 
सावधानी : तोड़ते समय सावधानी बरतें ताकि कोई चोट या नुकसान न हो।
काम करते समय अच्छे से सावधानी बरतें और अगर किसी अनुसूचित घटना होती है तो तुरंत चिकित्सा सुरक्षा की जाए।
करेला को सही तरीके से तोड़ने से पौधों को कोई हानि नहीं होती और आप एक स्वस्थ और उच्चतम गुणवत्ता वाले फलों को हासिल कर सकते हैं। karele ki kheti
 
                                                   Kisan Napier Farm

karele ki kheti

karele ki kheti

One thought on “करेले की खेती ( karele ki kheti ) : कम लागत में कमाए ज़्यादा मुनाफ़ा”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *